चक्रधरपुर के विधायक सुखराम उराँव ने कहा है की झारखण्ड वासी दुसरे राज्यों में फंसे अपनों को वापस लाने के लिए परेशान ना हों. झारखंड सरकार के द्वारा हामरे प्रवासी मजदूरों और छात्रों को लाने का सिलसिला जारी है. कुल 12 लाख लोगों को झारखण्ड लाने का लक्ष्य है. वे मिडिया को संबोधित करते हुए भावुक भी हो गए क्योंकि उनकी बेटी भी दिल्ली में फंसी हुई है जिसे वे अबतक अपने घर नहीं ला पाए हैं. उन्होंने बताया की झारखण्ड सरकार के प्रयास से जब बच्चे हटिया स्टेशन में उतर रहे थे तब उन्हें अपनी बेटी को याद कर उनकी आँखों में आंसू आ गए थे. सुखराम ने कहा की झारखण्ड सरकार ने सभी को वापस लाने का प्लान बनाया है. और अगर सबको वापस लाने का प्लान बनाया है तो उनके खाने पीने व रोजगार का भी प्लान तैयार है. झारखण्ड में किसी को किसी प्रकार की कोई भी परेशानी नहीं होगी. विधायक सुखराम उराँव लगातार लोगों से संपर्क कर अपने क्षेत्र के लोगों को दुसरे राज्य से बाहर निकालने की कवायद में जुटे हैं.