लोग अपनी गलतियों के कारण जल संरक्षण तालाबों के अस्तित्व को समाप्त कर रहे हैं। इसके कारण, चक्रधरपुर शहर में कई ऐसे तालाब हैं, जो कचरे से ढके होने के कारण एक खेत का रूप ले चुके हैं।