मंगलवार (28 सितंबर) को जेएनयूएसयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और गुजरात से जिग्नेश मेवाणी कांग्रेस में शामिल होने जा रहे हैं। इसके लिए कांग्रेस ने तैयारी पूरी कर ली है। दोनों युवा नेता सरदार भगत सिंह के जन्मदिन के मौके पर दिल्ली में राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल होंगे.

देश की आजादी में बड़ा योगदान देने वाले सरदार भगत सिंह की जयंती के मौके पर कांग्रेस कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी को अपने साथ जोड़कर कई समीकरण बना रही है.

हाल के वर्षों में ज्योतिरादित्य सिंधिया, जितिन प्रसाद और सुष्मिता देव जैसे युवा नेताओं ने कांग्रेस छोड़ दी है। जिसके बाद कांग्रेस पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठाए गए। फिर कुछ दिन पहले ही पंजाब कांग्रेस में कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच मनमुटाव सामने आया था। जिसमें अमरिंदर को कुर्सी छोड़नी पड़ी। वे अभी भी पार्टी आलाकमान से नाराज चल रहे हैं। ऐसे में कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी को जोड़ने से कांग्रेस पार्टी को कितना फायदा होता है ये देखने वाली बात होगी. दोनों नेता युवा हैं और अपनी पीढ़ी के युवाओं के बीच उनकी अच्छी पकड़ है।

अगले साल 2022 में यूपी, उत्तराखंड, पंजाब समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी का जुड़ाव कांग्रेस को चुनावी दौड़ में कितना आगे ले जाता है, यह भविष्य की बात होगी।

एक के बाद एक चुनाव हारती कांग्रेस अब खुद को बदलने की तैयारी कर रही है. पार्टी की नजर विधानसभा के साथ-साथ लोकसभा चुनाव पर भी है. चुनाव में जीत की दहलीज तक पहुंचने के लिए पार्टी जातिगत समीकरणों वाले युवाओं पर दांव लगाने जा रही है, ताकि 2024 के चुनाव में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीत सकें. कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी को पार्टी में शामिल करना उसी का हिस्सा है.

बिहार से ताल्लुक रखने वाले जेएनयूएसयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार शुरू से ही देश विरोधी नारे लगाने को लेकर बीजेपी सरकार के निशाने पर रहे हैं. बिहार में उनका अपना वोट बैंक है। आगामी 2024 के लोकसभा चुनाव और बिहार विधानसभा चुनाव में कन्हैया कुमार कांग्रेस के बहुत काम आ सकते हैं।

पता चला है कि गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष हार्दिक पटेल लंबे समय से कन्हैया कुमार और गुजरात से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी के संपर्क में हैं. सूत्रों से पता चला है कि दोनों ने पार्टी में एंट्री के लिए अपनी सहमति दे दी है.

बिहार के रहने वाले कन्हैया कुमार ने पिछला लोकसभा चुनाव बिहार की बेगूसराय लोकसभा सीट से केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के खिलाफ भाकपा उम्मीदवार के तौर पर लड़ा था, हालांकि वह हार गए थे. वहीं दलित समुदाय से ताल्लुक रखने वाले जिग्नेश गुजरात के वडगाम विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय विधायक हैं.

.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here