रांची6 घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

बबलू कुमार की पत्नी, बच्चों और भाई की तस्वीर।

  • परिजन बोले- हेल्पलाइन नंबर पर जानकारी लेने के बाद भी सक्षम अधिकारी फोन नहीं उठा रहे, बबलू से घर लौटने की गुहार लगा रहे हैं
  • झारखंड सरकार के हेल्पलाइन नंबर पर कई बार फोन किया, लेकिन कोई रिस्पांस नहीं मिल रहा है

काबुल में फंसे गांधीनगर गोटीधोड़ा के बबलू कुमार का परिवार चिंतित है। काबुल से एक फोन कॉल के दौरान बबलू ने दैनिक भास्कर से बात करते हुए घर वापसी की गुहार लगाई और कहा कि हेल्पलाइन नंबर कोई जवाब नहीं दे रहे हैं. फोन उठाने के बाद हैलो कहकर डिस्कनेक्ट कर देते हैं।

इधर गांधीनगर में बबलू के भाई सुभाष कुमार, लालबाबू पटेल, अशोक कुमार, दीपू कुमार ने बताया कि तीन दिन पहले टीवी में हेल्पलाइन नंबर 9717785379 जारी किया गया था. इसमें बात करने पर पोर्टपोर्ट, बीजा, काबुल और यहां का पता मांगा गया। जो हमने भेजा है।

उसके बाद से बार-बार कॉल करने के बाद भी कोई जवाब नहीं आया। झारखंड सरकार के हेल्पलाइन नंबर पर भी कॉल की गई, लेकिन कोई जवाब नहीं मिल रहा है.

काबुली में भारतीय दूतावास से वापसी का अनुरोध किया गया
बबलू के मुताबिक गुरुवार को तालिबानी लड़कों ने हमें गेस्टहाउस से एक गाड़ी में बिठाकर बाहर निकाला. जिसमें उसने ड्राइवर और हमारी फोटो खींची और कई दस्तावेज लिए। हम भारतीय दूतावास से किसी तरह घर वापस आने का अनुरोध कर रहे हैं। हम यहां यूपी के तीन दोस्तों के साथ फंसे हुए हैं।

झारखंड सरकार को मामले से अवगत कराया : विधायक
बेरमो विधायक जयमंगल सिंह ने कहा कि गांधीनगर निवासी बबलू के काबुल से लौटने की सूचना झारखंड सरकार को दे दी गई है. आवश्यक पहल करने में कुछ समय लग सकता है। लेकिन सरकार सकुशल घर वापसी करेगी। यह एक अंतरराष्ट्रीय मामला है। इस दिशा में केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों की ओर से पहल की जा रही है।

पत्नी बोली- चारों ओर भय और दहशत का माहौल है

बबलू की पत्नी लखन देवी ने कहा कि उसने एक दिन पहले उससे बात की थी, उसने आश्वासन दिया है कि घबराओ नहीं, मैं जल्द ही अपने वतन लौटूंगा। काबुल में चारों तरफ दहशत का माहौल है लेकिन घर वापसी का इंतजाम करने में लगे हैं. खाने-पीने की कोई समस्या नहीं है, बस घर लौटने की चिंता है. बबलू की चिंता पत्नी और बच्चों की हालत खराब है।

और भी खबरें हैं…

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here