रांची5 घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

रांची नगर निगम रांची शहर को स्वच्छ, सुंदर और सुंदर बनाने में जुटा है. अब निगम इसमें निजी संस्थानों की भी मदद लेगा। इसके लिए ग्रीन ड्रीम फाउंडेशन और मोर माइलेज इंस्टीट्यूट की ओर से बुधवार को नगर आयुक्त को एक प्रेजेंटेशन दिया गया. इसमें फाउंडेशन के प्रतिनिधि ने सीएसआर फंड से शहर के 15 हजार वर्ग फुट की वॉल पेंटिंग पर प्रेजेंटेशन दिया।

उन्होंने जीरो वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम के तहत ठोस कचरे को अलग-अलग कर खाद बनाने की जानकारी दी। इसके लिए कंपनी ने एक वार्ड का चयन करने की मांग की, जिसे मॉडल वार्ड के रूप में विकसित किया जा सके। कंपनी के प्रतिनिधि ने बताया कि यह काम सीएसआर फंड से किया जाएगा। इसके बदले में निगम से एक रुपया भी नहीं लिया जाएगा।

नगर आयुक्त ने जल्द ही एक वार्ड का चयन कर कंपनी को सौंपने की बात कही. वहीं मोर माइलेज सोसायटी के प्रतिनिधियों ने बायो फ्यूल बनाने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने बताया कि शहर के अंदर स्थित बांधों और तालाबों में शैवाल को अधिक मात्रा में विकसित करना होगा.

वहां के पानी का पीएच मान सुधर जाएगा। पानी साफ होगा तो हवा की गुणवत्ता भी सुधरेगी और लोगों को साफ पानी और साफ हवा मिलेगी। नगर आयुक्त ने कहा कि वह जल्द ही इस दिशा में आगे की कार्रवाई करेंगे, ताकि शहर के लोगों को स्वच्छ और स्वच्छ वातावरण मिल सके. इस अवसर पर उपायुक्त रजनीश कुमार एवं सहायक नगर आयुक्त शीतल कुमारी सहित अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे.

पार्किंग में फेरीवालों को निगम ने भेजा नोटिस

उधर, रांची नगर निगम ने एमजी रेड स्थित एक मॉल के पास स्थित पार्किंग स्थल में ठेला व मोबाइल फूड वैन लगाने के लिए ठेकेदार को नोटिस भेजा है. निगम ने ठेकेदार मिठू वर्मा को नोटिस भेजकर कहा है कि आपने 2.50 लाख की बोली लगाकर पार्किंग का ठेका लिया है. लेकिन, पार्किंग स्थल पर अवैध ठेले, स्लेज और मोबाइल फूड वैन पाए गए। दो बार फूड वैन मिलने पर ठेका निरस्त करते हुए उसे काली सूची में डाल दिया जाएगा।

और भी खबरें हैं…

,

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here