धनबाद14 घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

बरवाड़ा में परीक्षा देकर बाहर निकलती छात्राएं।

  • जिले के चार केंद्रों पर शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुई जेईई एडवांस की परीक्षा

आईआईटी आईएसएम धनबाद समेत देश के सभी 23 आईआईटी में दाखिले के लिए जिले के चार केंद्रों पर रविवार को जेईई एडवांस की परीक्षा हुई। आईआईटी धनबाद और पर्थ डिजिटल जोन कुसुम विहार और अयान डिजिटल जोन आईडीजेड कुमारडीह बरवाड़ा में दो-दो केंद्र थे। पहली पाली में पेपर एक की परीक्षा सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक और दूसरी पाली में पेपर दो की परीक्षा दिन के 2:30 से 5:30 बजे तक हुई थी. सभी केंद्रों पर परीक्षा शांतिपूर्ण रही। कदाचार का कोई मामला सामने नहीं आया।

धनबाद के अलावा गिरिडीह, काडरमा जैसे आसपास के जिलों के कुल 860 छात्र परीक्षा में शामिल होने थे, जिसमें करीब 60 अनुपस्थित रहे. दोनों पेपर में कुल 360 अंकों की परीक्षा के लिए कुल 114 प्रश्न पूछे गए थे। दोनों पेपर में 180-180 अंकों के 57-57 प्रश्न थे। इनमें से 19-19 सवाल फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स के थे। जानकारों के मुताबिक कुल मिलाकर प्रश्न पत्र का स्तर अच्छा रहा। गणित के कुछ प्रश्न औसत थे और कुछ कठिन। कुछ प्रश्न ऐसे थे जिन्हें हल करने में उम्मीदवारों को अधिक समय लगा। जबकि फिजिक्स के प्रश्न आसान थे। जबकि केमिस्ट्री में इन-ऑर्गेनिक आसान था और ऑर्गेनिक से संबंधित प्रश्न औसत थे।

आईआईटी धनबाद में 1125 सीटें, विदेशियों के लिए 20 फीसदी आरक्षित
जेईई एडवांस के माध्यम से बी.टेक, इंटीग्रेटेड एम.टेक आदि पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आईआईटी आईएसएम, धनबाद में 1125 सीटें हैं। संस्थान के जेईई एडवांस के चेयरमैन प्रो. शुभेंदु कुमार के मुताबिक, 1125 सीटों में से करीब 20 फीसदी सीटें विदेशी छात्रों के लिए आरक्षित होंगी. इससे पहले, भारतीय मूल के व्यक्ति (पीआईओ कार्ड धारक) और भारत के प्रवासी नागरिक (ओसीआई कार्ड धारक) जिन्हें पहले विदेशी उम्मीदवार नहीं माना जाता था, अब उन्हें विदेशी छात्रों के रूप में प्रवेश दिया जाएगा।

एक्सपर्ट के मुताबिक कट-ऑफ कुछ इस तरह रह सकती है
एक्सपर्ट अजयवीर सिंह के मुताबिक, उम्मीद के मुताबिक ही सवाल पूछे गए। 11-12वीं कक्षा में अच्छी पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए पेपर तुलनात्मक पैमाने पर आसान था। कट-ऑफ के संबंध में अनुमान है कि 127-130 अंकों के लिए रैंक 10 हजार तक हो सकती है और 170-175 अंक प्राप्त करने वालों की रैंक 2500 तक हो सकती है। वहीं, रैंक करने वालों की रैंक 10 हजार तक हो सकती है। 200 से अधिक अंक प्राप्त करने पर 1 हजार के भीतर रह सकते हैं।

और भी खबरें हैं…

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here