• हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • झारखंड
  • धनबाद
  • ठेकेदारों का एक समूह लॉटरी से उनका चयन कर टेंडर पेपर जमा कर रहा था, लेकिन दोपहर बाद सारा खेल बिगड़ गया।

धनबाद8 घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

निगम कार्यालय में टेंडर के लिए लगी ठेकेदारों की भीड़।

15.32 करोड़ रुपये की लागत से वार्डों में सड़क व नालियों के निर्माण के लिए मंगलवार को निगम कार्यालय में टेंडर निकाला गया. दिन भर कैंपस में अफरातफरी का माहौल रहा। जुगाड़ करने की कोशिश में पूरे दिन 100 से ज्यादा ठेकेदार वहीं खड़े रहे। ठेकेदारों ने दो दिन पहले बैठक कर टेंडर में सेटिंग-गेटिंग की पृष्ठभूमि तैयार कर ली थी।

ठेकेदारों के एक समूह ने कार्यालय के दफ्तरों में ही डेरा डाल दिया था। वे तय कर रहे थे कि किस वार्ड में, किस योजना के लिए कैन-कैन पेपर डाला जाएगा। इसके लिए उन्होंने वहां लॉटरी भी की। यह सब दोपहर 2 बजे तक चलता रहा। न केवल ठेकेदार का चयन लाटरी से किया जा रहा था, बल्कि बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार सभी टेंडर पेपर भी उसी दर पर जमा किये जा रहे थे.

हालांकि दोपहर बाद कुछ ठेकेदारों ने पूरा माहौल खराब कर दिया। एक ही योजना के लिए तीन-चार ठेकेदारों ने टेंडर पेपर जमा किए। यह पाया गया कि 64 परियोजनाओं में से 22 में तीन-चार ठेकेदारों ने कागजात जमा किए। इससे सारा खेल खराब हो गया।

आज खुलेगा टेंडर, एल वन पर दिया जाएगा ठेका
टेंडर पेपर तो गिने गए, लेकिन मंगलवार को उन्हें खाया नहीं जा सका। अब टेंडर पेपर बुधवार को खोले जाएंगे और उसके बाद ही यह तय होगा कि किस योजना में किसका रेट एल वन है और किसे ठेका मिलेगा। सूत्रों ने बताया कि नगर निगम ने टेंडर की जानकारी एक दिन पहले सदर थाने को दी थी, लेकिन मंगलवार को पुलिस बल नहीं पहुंचा. इस कारण ठेकेदारों को काफी मनमानी करनी पड़ी। वे कार्यालय के अंदर जाने वालों को भी रोक रहे थे। दोपहर बाद पुलिस पहुंची, लेकिन तब तक अधिकांश कागजात जमा हो चुके थे।

और भी खबरें हैं…

,

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here