• हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • झारखंड
  • जमशेदपुर
  • महालय अमावस्या पूजा आज, कल गूंजेंगे वीरेंद्र कृष्ण भद्रा के गीत, मूर्तिकार बनाएंगे मां की आंखें

जमशेदपुर20 घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें
  • पुरोहित बोले- बुधवार सुबह 5 बजे शंख की ध्वनि से मां दुर्गा का आवाहन करें
  • दुर्गा पूजा की तैयारी अब अंतिम चरण में है

दुर्गा पूजा की तैयारियां अंतिम चरण में हैं। दुर्गा पूजा 6 अक्टूबर को महालय से शुरू होगी। पितृ पक्ष के कारण रुके हुए सभी मांगलिक कार्य बुधवार से शुरू हो जाएंगे। इस दिन मां दुर्गा की मूर्ति का रंग-रोगन कर नेत्रदान किया जाएगा। बुधवार को अमावस्या नहीं होने के कारण 5 अक्टूबर को शाम 7.30 बजे पूजा शुरू होगी. चांदीपथ भी 6 अक्टूबर की सुबह होगी। देवी दुर्गा महालय से धरती पर आती हैं।

बंगाली समाज में महालय का विशेष महत्व है। बुधवार की सुबह बंगाली समुदाय के हर घर में शंख की आवाज गूंजेगी। मध्यरात्रि 12 बजे से मंदिरों में चंडी पाठ हवन का आयोजन किया जाएगा। पंडित मोहित मुखर्जी के अनुसार महालया के दिन मूर्तिकार माता के नेत्र बनाते हैं। महालया जैसे शुभ दिन पर मां की पूजा करें। प्रातः 5 बजे स्नान कर शंख की ध्वनि से माता का आवाहन करें। फिर पूजा-आरती करके धरती पर मां का भक्ति भाव से स्वागत करें। इसके साथ ही शहर में तैयारियां जोरों पर शुरू हो जाएंगी।

ऑल इंडिया रेडियो पर प्रसारित होगा महिषासुर मर्दिनी
6 अक्टूबर को सुबह 4.20 बजे ऑल इंडिया रेडियो पर वीरेंद्र कृष्ण भद्र की आवाज में महिषासुर मर्दिनी का विशेष प्रसारण होगा। ऑल इंडिया रेडियो का प्राथमिक चैनल 102.4 मेगाहर्ट्ज और विविध भारती 100.8 मेगाहर्ट्ज पर प्रसारित किया जाएगा।

महालय के दिन पितरों की पूजा की जाती है
महालय के दिन पितरों को अंतिम विदाई दी जाती है। दूध, तिल, कुशा, फूल और गंध के मिश्रित जल से पितृ तृप्त होते हैं। इस दिन पितरों की पसंद का भोजन बनाकर विभिन्न स्थानों पर चढ़ाया जाता है।

और भी खबरें हैं…

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here