• हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • झारखंड
  • कुरुमगढ़ थाने की इमारत को उड़ाया, लिखा- प्रशांत बोस और शीला की गिरफ्तारी के विरोध में ऐसा किया गया है

गुमला2 घंटे पहले

नवनिर्मित थाना परिसर में 50 से अधिक मजदूर सो रहे थे। सभी को वहां से निकाल कर नक्सलियों ने बम से इमारत को उड़ा दिया.

गुमला में एक करोड़ के इनामी नक्सली प्रशांत बोस और किशन दा उर्फ ​​बुद्ध की गिरफ्तारी के विरोध में नक्सलियों ने जवाबी कार्रवाई की है. गुमला जिले के कुरुमगढ़ थाने के नवनिर्मित भवन को नक्सलियों ने उड़ा दिया. इतना ही नहीं उन्होंने वहां पोस्टर लगाकर पुलिस को चुनौती भी दी है कि यह प्रशांत बोस और उनकी पत्नी शीला की गिरफ्तारी का जवाबी हमला है.

इस हमले से नवनिर्मित थाना भवन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है।

जबकि घटना स्थल से महज 2 किमी दूर स्कूल भवन में 200 से अधिक पुलिस कर्मी मौजूद थे। किसी को घटना की भनक तक नहीं लग पाई। घटना को अंजाम देने के बाद नक्सली मौके से फरार हो गए. घटना के बाद से आसपास के गांवों में दहशत का माहौल है. हालांकि पुलिस ने अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है।

हमले के बाद नक्सलियों ने पोस्टर चिपकाए हैं.  उस पर लिखा है कि किशन दा की गिरफ्तारी के विरोध में ऐसा किया गया है.

हमले के बाद नक्सलियों ने पोस्टर चिपकाए हैं. उस पर लिखा है कि किशन दा की गिरफ्तारी के विरोध में ऐसा किया गया है.

मजदूरों की नजर- आ चुके थे 50 से ज्यादा हथियारबंद नक्सली
थाने के निर्माण कार्य में लगे एक मजदूर ने बताया कि रात के 12 बज रहे थे. अचानक यहां 50 हथियारबंद नक्सली पहुंच गए। एक को हटा लिया गया और सभी को तत्काल पुलिस थाना भवन खाली करने का आदेश दिया गया। मजदूरों ने जैसे ही वहां से रवाना किया, उन्होंने कैन बम लगाकर थाने की इमारत को उड़ा दिया.

मुख्यालय को दी गई घटना की जानकारी
उधर, कुमरुमगढ़ थाना प्रभारी ने सुबह घटना की पूरी जानकारी जिला अधिकारियों को दी. इसके बाद पुलिस मुख्यालय को भी इसकी सूचना दे दी गई है। पुलिस के आला अधिकारियों के मौके पर पहुंचने की सूचना है.
(इनपुट- गुमला से आरिफ हुसैन अख्तर)

और भी खबरें हैं…

,

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here