• हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • झारखंड
  • रांची
  • 2 साल के अंदर पाइपलाइन से पूरे रांची में पहुंच जाएगी रसोई गैस, अब 942 रुपये में मिलेगा सिलेंडर, 30 फीसदी तक कम होगा दाम

रांची2 घंटे पहलेलेखक शशि कुमार

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

शहर के सभी घरों में एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराने के लिए पूरे शहर में पाइपलाइन बिछाने का काम चल रहा है. फिलहाल शहर के दो हजार घरों में पाइपलाइन के जरिए एलपीजी की आपूर्ति की जा रही है। यह आपूर्ति डीसीयू (डीकंप्रेसन यूनिट) के जरिए की जा रही है। गेल के जीएम (सीजीडी) विशाल सिंघल ने कहा कि दो साल में रांची के पूरे शहरी क्षेत्रों को पाइपलाइन के जरिए गैस की आपूर्ति मिलेगी. इस वित्तीय वर्ष तक यूपी से गैस लाइन के जरिए गैस आने की पूरी संभावना है। ऐसा हुआ तो काम में तेजी आएगी।

मेकॉन के महाप्रबंधक केके मिश्रा ने कहा कि कोरोना के चलते पाइपलाइन बिछाने का काम थोड़ा धीमा हो गया था, लेकिन संक्रमण कम होने के बाद घरों को कनेक्शन देने का काम तेज गति से चल रहा है. मार्च तक यह कनेक्शन 5000 से अधिक घरों तक पहुंच जाएगा। इसके लिए मेकॉन के इंजीनियर पूरी तरह से तैयार हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल डीसीयू के जरिए गैस की आपूर्ति की जा रही है.

गौरतलब है कि भारत सरकार ने नवंबर 2017 में बनारस, पटना, रांची, जमशेदपुर, कटक, भुवनेश्वर में यह परियोजना गेल को सौंपी थी. मेकॉन इसके लिए सलाहकार बन गया है। मेकॉन ने निर्धारित समय के भीतर रांची, जमशेदपुर, कटक, भुवनेश्वर में पाइपलाइन बिछाई है। मालूम हो कि पाइपलाइन के जरिए घरों तक गैस पहुंचाने का प्रोजेक्ट गेल का है और इसकी इंजीनियरिंग मेकॉन द्वारा की जा रही है. अभी एक सिलेंडर की कीमत 942 रुपये है। विशाल सिंघल ने बताया कि अगर गैस पाइपलाइन के जरिए लोगों के घरों में पहुंचती है तो कीमत 30 फीसदी कम हो जाएगी।

और भी खबरें हैं…

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here