धनबाद16 घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें
  • 34 स्कूलों ने नहीं दी फीस का ब्योरा

दिल्ली पब्लिक स्कूल में सोमवार को नियमों का उल्लंघन कर फीस वसूली, स्कूल स्तरीय फीस कमेटी के गठन समेत विभिन्न मुद्दों पर बैठक होगी. बैठक सुबह 11:30 बजे से डीईओ प्रबल खेस की अध्यक्षता में होगी। इसको लेकर डीएसई इंदर भूषण सिंह ने सभी गैर सहायता प्राप्त निजी स्कूल के प्राचार्यों को पत्र लिखा है। बताया जा रहा है कि बैठक में राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण परीक्षा पर भी चर्चा होगी.

हालांकि इस बैठक का मूल संगठनों ने कड़ा विरोध किया है। इधर, डीईओ ने कहा कि कोविड-19 से अनाथ बच्चों से फीस वसूली पर भी चर्चा की जाएगी. जिन बच्चों के माता-पिता या माता-पिता की मृत्यु कोरोना के कारण हुई है, उनसे कोई शुल्क नहीं लिया जाना है। अभिभावकों की ओर से शिकायत मिलने पर संबंधित स्कूल से जवाब मांग कर कार्रवाई की जा सकती है.

डीईओ के रिमाइंडर का भी संबंधित स्कूलों पर कोई असर नहीं पड़ा

जिले के सीबीएसई व आईसीएसई से संबद्ध 34 निजी स्कूलों ने फीस का ब्योरा डीईओ कार्यालय को नहीं दिया है. वहीं तीन स्कूलों ने यह कहते हुए दूरी बना ली है कि वे स्कूल स्तरीय फीस कमेटी के निर्णय के अनुसार फीस ले रहे हैं. डीईओ के रिमाइंडर का भी संबंधित स्कूलों पर कोई असर नहीं पड़ा. आईसीएसई के किसी भी स्कूल ने कार्यालय को कोई रिपोर्ट नहीं दी है। दरअसल डीईओ ने साल 2020-21 और साल 2021-22 में स्कूलों द्वारा ली गई फीस का तुलनात्मक चार्ट मांगा था. लेकिन, जिले के आधे से ज्यादा स्कूलों ने कोई जवाब देना भी जरूरी नहीं समझा.

प्राचार्यों की बैठक का अभिभावक संगठनों ने किया विरोध
इधर, झारखंड अभिभावक संघ और झारखंड अभिभावक संघ ने सोमवार को निजी स्कूल के प्राचार्यों की बैठक का विरोध किया है. संगठनों के सदस्यों ने कहा कि बैठक जानबूझकर निजी स्कूल परिसर में आयोजित की जा रही है न कि किसी सरकारी स्थान पर. जहां माता-पिता की शिकायत पर चर्चा होनी है, वहीं अभिभावकों को इससे दूर रखा गया है. बैठक में मूल संगठनों का शामिल न होना कई सवाल खड़े करता है। इस बैठक में अभिभावकों को भी शामिल होना चाहिए। ताकि वे भी बैठक में अपनी बात रख सकें।

और भी खबरें हैं…

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here