• हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • झारखंड
  • रांची
  • 7 साल की बच्ची को अगवा कर बेंगलुरु के दंपत्ति को 40 हजार में बेचा, खरीदने-बेचने में शामिल दो महिलाएं गिरफ्तार

रांची14 घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

मां बालो देवी अपनी बच्ची आंचल से प्यार करती हैं।

  • बच्चा खरीदने वाली महिला का पति बेंगलुरु में चलाता है होटल, उसके कोई संतान नहीं थी

बेंगलुरु में बूटीमेड के पास से सात साल की बच्ची को अगवा कर बेचने के आरोप में पुलिस ने एक नाबालिग और दो महिलाओं को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार महिलाओं में एक गुड़िया कुमारी ने बच्ची को 40 हजार में बेचा था. जबकि दूसरी महिला बेबी देवी बेंगलुरु की रहने वाली है, जिसने बच्ची को खरीदा है। पुलिस ने बच्ची को भी उसके पास से बरामद कर रांची लाया और उसकी मां को सौंप दिया. गुड़िया देवी व नाबालिग सदर थाना क्षेत्र स्थित बड़गई की रहने वाली हैं.

वहीं 40 हजार में बच्ची को खरीदने वाली महिला भी अपहरणकर्ता गुड़िया देवी की पड़ोसी है और वह इस समय अपने परिवार के साथ बेंगलुरु में रह रही है. बेबी के पति योगेंद्र शर्मा बैंगलोर में एक होटल चलाते हैं। सदर डीएसपी प्रभात रंजन बरवार ने बताया कि 15 जुलाई की दोपहर गुलगुलिया की सात वर्षीय बेटी का अपहरण बूटीमोद चौक के पास से कर लिया गया. प्राथमिकी लड़की के पिता नीरल पासी ने दर्ज कराई थी।

अपहरण के आरोपी महिला का पति रांची में चलाता है ऑटो

10 साल पहले हुई थी बच्चे की शादी, बच्चे के अभाव में जेल पहुंचा

गिरफ्तार बच्ची ने बताया कि उसकी शादी 10 साल पहले यज्ञेंद्र शर्मा से हुई थी. कोई बच्चा नहीं है। 15 जुलाई को जब उसकी पड़ोसी गुड़िया बच्ची को लेकर उसके पास पहुंची तो वह उसे गोद लेने के लिए तैयार हो गई। यह नहीं बताया गया कि वह बच्ची को अगवा कर ले आई है।

ऐसी मिली कामयाबी… सीसीटीवी फुटेज से हुई आरोपी महिला की पहचान

सदर थानेदार वेंकटेश कुमार के निर्देश पर दरेगा मानेज कुमार महते ने उस टेंपो की जानकारी जुटाई, जिससे बच्ची का अपहरण किया गया था. सीसीटीवी फुटेज से पता चला है कि दो महिलाएं बच्ची को लेकर टेम्पे से बड़गई मीड उतरी थीं. पहचान कर पकड़ लिया। जांच में पता चला कि एक नाबालिग भी है। अपहरणकर्ताओं ने बताया कि उन्होंने बच्ची को बेबी देवी नाम की महिला को 40 हजार रुपये में बेच दिया है।

बच्ची को 27 दिन में बच्चे के साथ मिलाया गया

सात साल की बच्ची को अपने पास रखते हुए अरपी बेबी इस बात का खास ख्याल रख रही थी कि उसे किसी तरह की परेशानी न हो. लड़की के पहनने के लिए अच्छे कपड़े और जूते भी खरीदे गए। 27 दिनों तक अपने माता-पिता से दूर रहने के बाद भी लड़की बहुत खुश थी। ऐसे में लड़की को अपने माता-पिता से दूर जाने का बिल्कुल भी मन नहीं कर रहा था.

और भी खबरें हैं…

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here