रांची4 घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

आरोपी जुगल और रफारूक हथियार बनाने में माहिर हैं। दोनों मिलकर अवैध हथियारों का निर्माण करते हैं। इसके लिए जुगल और फारूक ने अपने घर पर हथियार निर्माण सामग्री भी रखी है।

रांची में मिनी गन फैक्ट्री चल रही थी. रांची पुलिस ने ग्रामीणों के साथ मिलकर इसका खुलासा किया है. इस दौरान पुलिस ने आरोपी फारूक अंसारी और जुगल लोहरा को भी गिरफ्तार किया है. साथ ही छापेमारी के दौरान फैक्ट्री से पुलिस ने एक अर्ध-निर्मित सिंगल बैरल पिस्टल, लकड़ी के गन फ्रेम, फर्नेस हीटिंग मशीन, देसी पिस्टल और दो गोलियां बरामद की हैं.

आरोपी जुगल और रफारूक हथियार बनाने में माहिर हैं। दोनों मिलकर अवैध हथियारों का निर्माण करते हैं। इसके लिए जुगल और फारूक ने अपने घर पर हथियार निर्माण सामग्री भी रखी है। पूछताछ में आरोपी जुगल ने पुलिस को बताया कि वह फारूक के साथ मिलकर पुराने हथियारों की मरम्मत के अलावा नए हथियार बनाने का काम करता है। इसके बाद दोनों मिलकर उन हथियारों को बाजार में बेचते हैं।

ग्रामीणों की मदद से गिरफ्तार
पुलिस ने ग्रामीणों के साथ मिलकर इसका खुलासा किया है। ग्रामीण लगातार पुलिस से शिकायत कर रहे थे कि पिथौरिया के सांगा गांव में कोई अवैध धंधा चल रहा है. उस घर में अक्सर कुछ संदिग्ध लोग आते रहते हैं। इससे ग्रामीणों में भय का माहौल है। इसके बाद पुलिस ने परी योजना के तहत घटना को अंजाम दिया।

खरीदार के रूप में पुलिस ने रंगेहाथ पकड़ा
पुलिस ने आरोपी फारूक को पकड़ने के लिए सबसे पहले जुगल लोहरा को बुलाया। कहा कि पार्टी हथियार खरीदने आई है। उन्हें करकट्टा के पास जंगल में जुगल में बुलाया गया था। इसके बाद पुलिस टीम सादे कपड़ों में जंगल में छिप गई। फारूक जैसे ही जंगल में मौजूद आरोपी जुगल के पास पहुंचा, पुलिस टीम ने उसे चारों तरफ से घेर लिया. पुलिस टीम ने फारूक को दबोच लिया। तलाशी के दौरान उसके पास से एक देशी पिस्टल, दो गोलियां और अन्य हथियार भी बरामद किए गए।

डर इस कदर था कि ग्रामीण गवाह बनने को तैयार नहीं थे.
आरोपी जुगल लोहरा और फारूक अंसारी का खौफ इस कदर है कि गांव में कोई भी इन दोनों के खिलाफ गवाही देने को तैयार नहीं है. पुलिस ने आरोपी जुगल के घर छापेमारी कर हथियार जब्त किया तो पुलिस ने आसपास मौजूद लोगों को गवाही देने के लिए बुलाया. लेकिन कोई भी ग्रामीण गवाही देने को तैयार नहीं हुआ। इस वजह से छापेमारी टीम में शामिल जमादार पारस मणि और हवलदार प्रमोद तिवारी को पुलिस ने गवाह बनाया है.

और भी खबरें हैं…

,

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here