रांची40 मिनट पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

सुनवाई के दौरान अधिवक्ता पांडेय नीरज राय ने कोर्ट को बताया कि टेंडर की शर्तों में सभी को दस टैबलेट की कीमत चुकानी पड़ी. (फाइल फोटो)

रिनपास में दवा खरीद टेंडर में अनियमितता को लेकर हाईकोर्ट में दायर याचिका पर सुनवाई हुई. मामले की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति राजेश शंकर की अदालत ने राज्य सरकार और रिनपास को नोटिस जारी कर 18 नवंबर तक जवाब मांगा है.

इसके साथ ही टेंडरिंग कंपनी क्यूरोफी फार्मास्युटिकल्स को भी ई-मेल के जरिए नोटिस भेजने का निर्देश दिया गया है। दरअसल, रिनपास में करीब चार से पांच करोड़ रुपये की दवाएं खरीदनी पड़ती हैं। इस मामले में सीएल लैब और सिटी फार्मा ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर आरोप लगाया है कि टेंडर की शर्तों का उल्लंघन कर अधिक कीमत पर दवा खरीदी गई.

सुनवाई के दौरान अधिवक्ता पांडेय नीरज राय ने कोर्ट को बताया कि टेंडर की शर्तों में सभी को दस टैबलेट की कीमत चुकानी पड़ी.

27% अधिक कीमत पर खरीदी जा रही हैं दवाएं
सभी ने किया, लेकिन क्यूरोफी फार्मास्युटिकल्स ने एक टैबलेट की कीमत उद्धृत की। जिसके बाद टेंडर कमेटी ने सभी कंपनियों की ओर से दवा की कीमतों को गुणा कर चार्ट तैयार किया। चार्ट में यह पाया गया कि सभी कंपनियों ने केवल दस टैबलेट की कीमत बताई है जबकि क्यूरोफी फार्मास्युटिकल्स ने केवल एक टैबलेट की कीमत बताई थी। इससे करीब 27 फीसदी अधिक कीमत पर दवा खरीदी जा रही है।

और भी खबरें हैं…

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here