• हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • झारखंड
  • धनबाद
  • अतिचारों से रेलवे आवास खाली करने पर उपद्रव, मप्र के समर्थकों पर हमले और दुर्व्यवहार के आरोप; शिकायत थाने में

विज्ञापन के साथ फेड? विज्ञापनों के बिना समाचार के लिए दैनिक भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

धनबाद4 घंटे पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
  • रेलवे डायमंड क्रासिंग पर अतिक्रमणकारियों ने 57 क्वार्टर खाली कर दिए
  • विरोध में लोग सांसद के घर पहुंचे, समर्थकों ने किया हंगामा

डायमंड क्रासिंग पर 57 रेलवे कब्जों द्वारा रेलवे से अतिक्रमण हटाया गया। अतिक्रमण हटाने की घोषणा के बाद, लीजन के सदस्य सांसद पीएन सिंह के धनसार स्थित आवास पर पहुंचे और मदद की मांग करते हुए धरने पर बैठ गए। पिकेट से सांसद के घर की सड़क को जाम कर दिया गया। मकाक पर मौजूद सांसद समर्थकों ने समझा कि घेराबंदी लाई जाएगी, कि सांसद अभी नहीं हैं, उन्हें कल आना चाहिए। घेराबंदी खत्म करो। घेराबंदी की सूचना मिलने पर धनसार पुलिस भी मायके पहुंच गई। पुलिस ने घेराबंदी को समाप्त करने का भी अनुरोध किया। हालांकि, महिलाओं ने बात नहीं मानी।

घेराबंदी करने वाले लोगों और सांसद समर्थकों के बीच हंगामा हुआ। घिरी महिलाओं ने आरोप लगाया कि सांसद समर्थकों ने उनके साथ मारपीट और दुर्व्यवहार किया। तीन घंटे तक सांसद आवास पर हंगामा होता रहा। किसी तरह पुलिस ने सभी को समझा बुझा कर थाने ले गई। घेराबंदी में शामिल नीतू देवी नाम की महिला ने सांसद प्रतिनिधि नितिन भट्ट, भाजपा नेता अमलेश सिंह, सुशील सिंह, बच्चा सिंह सहित 40 से 50 अज्ञात के खिलाफ धनसार थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई है।

एमपी मुर्दाबाद के नारे

सांसद के आवास पर पहुंची महिलाओं ने कहा था कि वे महिला सीट लाएंगी। सांसद हमारी मदद करें। सांसदों को घर खाली करना बंद कर देना चाहिए। इस दौरान महिलाओं ने सांसद मुर्दाबाद के नारे लगाए।

सांसद ने कहा- साजिश के तहत की गई घेराबंदी, पुलिस तमाशा थी

हीरा क्रॉसिंग के मुद्दे पर अपने आवास पर उप्र को सांसद ने एक साजिश के रूप में वर्णित किया है। उन्होंने कहा कि रेलवे द्वारा घर खाली करने का अभियान चलाया जा रहा है। वीरेंद्र को डीआरएम ऑफिस में काम करना चाहिए था, लेकिन लोग उनके आवास का घेराव करने पहुंच गए। वह भी शाम को। उस समय वह अपने घर में भी नहीं था। अगर उन्हें सांसद से बात करनी होती, तो उन्हें पांच से सात लोग मिलते। लेकिन, घर को घेरने का इरादा था। उन्होंने कहा कि पूरे प्रकरण में पुलिस की लापरवाही थी। फोन करने पर पुलिस समय पर नहीं आई। पुलिस तमाशा बनी रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here