• हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • झारखंड
  • केवल 900 फॉर्म भरे गए, 79 हजार महंगे हज तीर्थयात्रा; 2019 में 2100 आवेदन; इस बार 1200 फॉर्म कम हुए

विज्ञापन के साथ फेड? विज्ञापनों के बिना समाचार के लिए दैनिक भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

रांची23 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

फाइल फोटो

  • इस बार हज पर जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए अनुमानित खर्च 3 लाख 69 हजार 50 रुपये है
  • सऊदी अरब सरकार 5 से 15 प्रतिशत तक वैट दर बढ़ाती है

10 जनवरी हज यात्रा के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख है। लेकिन अभी तक केवल 900 आवेदन ही आए हैं। ये आवेदन वर्ष 2019 के आधे से भी कम हैं। उस समय, झारखंड से 2100 लोग हज के लिए गए थे, वर्ष 2020 में, कोरोना महामारी के कारण, यात्रा की अनुमति नहीं थी। इस साल की यात्रा के लिए नए नियम पेश किए गए हैं। साथ ही वर्ष 2019 की तुलना में यात्रा भी 79 हजार महंगी हो गई है।

इस बार हज पर जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए अनुमानित खर्च 3 लाख 69 हजार 50 रुपये है। वहीं, 2019 में केवल 2 लाख 90 हजार रुपये दिए जाने थे। इस बार सऊदी अरब सरकार ने वैट की दर 5 से बढ़ाकर 15 प्रतिशत कर दी है। वहीं, वीजा फीस के नाम पर करीब 6 हजार रुपये लिए जा रहे हैं। इस बार कोरोना के कारण यात्रा की अवधि में लगभग 10 दिन की कमी की गई है। पहले 35-45 दिनों की अवधि थी। जबकि, यह समय 30 से 35 दिन का होगा।

बुजुर्ग, नाबालिग और बीमार हज पर नहीं जाएंगे

सऊदी अरब सरकार के नए नियम के तहत इस बार गर्भवती महिलाएं हज पर नहीं जा सकेंगी। किडनी, लिवर, कैंसर, हार्ट से संबंधित मरीजों के यात्रा पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। 18 साल से कम और 65 से ऊपर के बुजुर्ग भी हज नहीं कर पाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here