• हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • झारखंड
  • धनबाद
  • टावरों तक पानी पहुंचने से पहले ही रेलवे 4 जगहों से कर रहा चेरी, पंडारपाला में भी 70 75 अवैध कनेक्शन

धनबाद16 घंटे पहलेलेखक: केके सुनील

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

झरिया पुल व श्रमिक चौक में अवैध रेल कनेक्शन

  • 19 टावरों से सप्लाई के लिए 22.5 एमएलडी पानी की जरूरत, 45 एमएलडी सप्लाई के बावजूद रहवासी प्यासे
  • डीडब्ल्यूएसडी की ऑपरेशन एंड मेंटेनेंस एजेंसी ने अपनी सर्वे रिपोर्ट में यह खुलासा किया है

अवैध पानी के कनेक्शन से शहरवासियों को प्रताड़ित किया जा रहा है। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग (डीडब्ल्यूएसडी) की संचालन एवं रखरखाव एजेंसी मेसर्स अभय सिन्हा एंड कंपनी के सर्वे में यह बात सामने आई है। यह पाया गया कि शहर और उसके आसपास कई जगहों पर अवैध कनेक्शन हैं। रेलवे कॉलोनियों व पंडरपाला क्षेत्र में अवैध कनेक्शन से मात्र 15-17 एमएलडी पानी की चोरी हो रही है. सिर्फ रेलवे 14-15 एमएलडी पानी ले रहा है। इसके लिए शुद्ध पानी के मुख्य राइजिंग पाइप से ही अवैध रूप से कनेक्शन किए गए हैं।

डीडब्ल्यूएसडी के अधिकारियों का कहना है कि शहर और उसके आसपास जलापूर्ति के लिए बनाए गए 19 वाटरशेड की कुल क्षमता 22.5 एमएलडी है। एक बार जब सभी जलकुंड भर जाते हैं, तो दिन में एक बार आराम से 45-60 मिनट तक पानी की आपूर्ति की जा सकती है। वहीं भेलटांड ट्रीटमेंट प्लांट से रोजाना 45 एमएलडी पानी छोड़ा जा रहा है। बीच में पानी नहीं होने के कारण टावर नहीं भर रहे हैं और हमारे घरों को पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है.

31 हजार वैध कनेक्शन 3.5 एमएलडी पानी पर्याप्त
नगर निगम के मुताबिक शहर में 31 हजार वैध कनेक्शन हैं। उन्हें केवल 3-3.5 एमएलडी पानी की जरूरत होती है। यानी रोजाना की जरूरत का करीब 15 गुना पानी ट्रीटमेंट प्लांट से भेजा जा रहा है।

पहले 45 एमएलडी में दोनों समय की आपूर्ति होती थी
डीडब्ल्यूएसडी का कहना है कि 4 साल पहले तक सुबह-शाम 19 टावरों से पानी की आपूर्ति की जाती थी। तब भी 45 एमएलडी पानी ही छोड़ा गया था, लेकिन अब उतनी ही मात्रा में पानी कम होने लगा है।

हमारे घरों में पहुंचने से पहले ही यहां पानी पिलाया जा रहा है

पंडारपाला में ही मजदूरों ने घरों को पाइप लाइन से जोड़ा

पंडारपाला क्षेत्र में भी सर्वे में बड़े पैमाने पर अवैध कनेक्शन का पता चला है. वहां के रहवासियों के अनुसार 70-75 घरों में शुद्ध पानी के मुख्य राइजिंग पाइप को नगर निगम के कर्मचारियों ने ही जोड़ा है. वो भी तब जब पानी का टावर हो।

कार्रवाई के लिए निगम को पत्र भेजा गया है

निगम को पत्र भेजकर बताया गया है कि रेलवे ने 4 जगहों पर अवैध कनेक्शन किए हैं. कार्रवाई की सलाह दी गई है।‘ –मनीष कुमार, ईई, डीडब्ल्यूएसडी

सूचना नहीं मिलने पर उचित कार्रवाई की जाएगी

इस संबंध में नगर निगम से कोई सूचना नहीं मिली है। सूचना मिलने पर उचित कार्रवाई की जाएगी।
-पीके मिश्रा, पीआरओ, धनबाद रेल मंडल

रेलवे का पानी नहीं रोक सकता

रेलवे एक सरकारी विभाग है, पानी नहीं रोक सकता। मीटर लगाने को कहेगा। –सत्येंद्र कुमार, नगर आयुक्त

मीटर लगाने को कहा गया है

धनबाद रेल मंडल प्रबंधन को निगम से बात कर मीटर लगाने को कहा गया है.-संदीप सिंह, डीसी

और भी खबरें हैं…

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here