विज्ञापन के साथ फेड? विज्ञापनों के बिना समाचार के लिए दैनिक भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

मुसाबनी6 दिन पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
  • लोगों ने मुआवजे की मांग को लेकर ढाई घंटे तक सड़क जाम किया

शनिवार को मुसाबनी-जादुगुड़ा मार्ग पर एक तेज रफ्तार हाइवा ने चकरुलिया में अपने घर के पास, मजदूरी करने के बाद लौट रहे सुनाराम किस्कू को रौंद दिया। इसके कारण उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद ग्रामीणों ने मुआवजे की मांग को लेकर ढाई घंटे तक सड़क जाम रखा। इसके चलते दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई। घटना की सूचना मिलने के बाद बीडीओ सीमा कुमारी मौके पर पहुंची और सड़क पर जाम लगा रहे लोगों से बातचीत की। उसके बाद मुआवजे के आश्वासन के बाद जाम हटाया गया।

कैसे हुई घटना?

जादुगोड़ा थाना क्षेत्र के चाकुलिया गाँव के निवासी सुनाराम किस्कू (42 वर्ष) शाम करीब 4:30 बजे काम के बाद अपने घर लौट रहे थे, उसी समय अपने घर के पास जादुगुड़ा माइंस से सामान लोड कर बागजाता माइंस (JH) जा रहे थे हाईवा गॉट के 05 एक्सएक्स -4465) एक पहिया के पीछे से टकराया। ग्रामीणों ने बताया कि हाईवा काफी तेज गति से गलत दिशा में आ रहा था। हियुवा पैदल ही सड़क पार करते समय रौंद दिया। इसके बाद हाईवा चालक वहां से भागने में सफल रहा। पीड़ित परिवार के लिए मुआवजे की मांग को लेकर तेंगरा पचायत के प्रमुख दलेरी सोरेन और आजसू नेता सह पूर्व जिला परिषद सुखलाल हेम्ब्रम के नेतृत्व में ग्रामीणों ने सड़क पर जाम लगा दिया। घटना की जानकारी मिलने पर जादुगुड़ा पुलिस पहुंची।

सीओ सह बीडीओ सीमा कुमारी भी शाम करीब 6 बजे मौके पर पहुंची। उन्होंने बातचीत की और तुरंत 10,000 रुपये का मुआवजा मिला। चार कंबल दिए गए। मुआवजे का अंतिम दौर रविवार को जादुगोड़ा पुलिस स्टेशन में आयोजित किया जाएगा। मृतक सोनाराम के लिए घर जिम्मेदार था। वह अपने परिवार के घर को चलाने के लिए एक मजदूर के रूप में काम करता था वह अपनी पत्नी द्वारा जीवित है, जिसमें दो बेटे और एक बेटी शामिल है। 15 लाख रुपये के मुआवजे की मांग को लेकर हाथा मुसाबनी रोड को साढ़े चार घंटे से साढ़े सात घंटे तक जाम कर दिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here