पूर्वी सिंहभूम के प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों के 1743 शिक्षकों को पदोन्नत करने का रास्ता साफ हो गया है। इन शिक्षकों को कक्षा दो से कक्षा तीन तक पदोन्नत किया जाएगा। स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग द्वारा आदेश जारी होने के बाद जिला शिक्षा विभाग के स्तर पर इसकी प्रक्रिया पूरी कर ली गयी है.

इसी के तहत जिला शिक्षा विभाग की ओर से प्रमोशन लिस्ट भी पास कर दी गई है। शिक्षकों की ग्रेड-3 में पदोन्नति का यह मामला करीब 15 साल से अटका हुआ था। शिक्षक संघ लगातार इसकी मांग कर रहे थे। साल 2018 में एक बार इसको लेकर बड़ी पहल की गई लेकिन काम नहीं हो सका। इस बार प्रमोशन का मामला बनता दिख रहा है। इसको लेकर जिला शिक्षा अधीक्षक का कार्यालय दौड़ में है और सभी बाधित कार्यो को सुगम बनाया जा रहा है. डीएसई कार्यालय से 1741 शिक्षकों की पदोन्नति संबंधी आदेश को भी हटा दिया गया है। डीएसई कार्यालय द्वारा जारी 1743 शिक्षकों की सूची में अब सैकड़ों शिक्षक सेवानिवृत्त हो चुके हैं। कई की मौत भी हो चुकी है। ऐसे शिक्षकों की संख्या 700-800 के करीब है। इस आदेश का तकनीकी पहलू यह भी है कि इस सूची में शामिल सेवानिवृत्त शिक्षकों को पदोन्नति के दायरे में शामिल नहीं किया जाएगा।

उधर, पहली बार जिला शिक्षा अधिकारी के कार्यालय से जिले के उच्च विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों की प्राथमिकता सूची तैयार की गई है. 500 शिक्षकों के नाम प्राथमिकता सूची में हैं। यह सूची काफी समय से तैयार की जा रही थी। सूची जारी होने के बाद अब शिक्षकों को इसमें आपत्ति जताने के लिए 15 दिन का समय दिया जाएगा। आपत्तियों को सुनने के बाद अंतिम मेरिट सूची जिला प्रशासन के पोर्टल पर जारी की जाएगी। उल्लेखनीय है कि हाल ही में प्रभारी प्राचार्यों की पदस्थापना सूची जारी होने पर शिक्षकों की प्राथमिकता को लेकर सवाल उठ रहे थे. इसके बाद डीईओ एसडी तिग्गा ने क्षेत्रीय शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर प्राथमिकता सूची दोबारा बनाने को कहा। किसी भी विवाद से बचने के लिए सूची तैयार करने में अत्यधिक सावधानी बरती गई। उस सूची के अनुसार अब स्कूलों में प्रभारी प्रधानाध्यापक के पद पर पदस्थापन के लिए 67 शिक्षकों की सूची फिर से तैयार की जानी है.

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here