चाईबासा, संवाददाता

पश्चिमी सिंहभूम की उपायुक्त अनन्या मित्तल ने जिले में खाद्य सुरक्षा समूह को जैविक खेती का प्रशिक्षण देकर प्रोत्साहित करने पर जोर दिया है. उन्होंने इस जिले के प्रगतिशील किसानों के आसपास के जिलों में दौरे और प्रशिक्षण की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए, जहां एक विशेष कृषि उत्पादन के क्षेत्र में बेहतर काम किया जा रहा है ताकि कृषि उत्पादन के क्षेत्र में मोती, गेंदा, अजगर, ड्रमस्टिक आदि बुधवार को उपायुक्त, प्रौद्योगिकी प्रबंधन एजेंसी (आत्मा), जिला भूआमा शासी निकाय एवं राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजना की अध्यक्षता में जिला स्तरीय खाद्य सुरक्षा मिशन कार्यकारी समिति की बैठक हुई. बैठक में विभिन्न बिन्दुओं की समीक्षा करते हुए उपायुक्त आत्मा कार्यालय एवं आम, इमली, कटहल, कस्टर्ड सेब आदि फसलों में रिक्त पदों पर बहाली हेतु आगे की कार्यवाही प्रारम्भ करेंगे. अनुपयोगी हो, ऐसे उत्पादों के विपणन के लिए प्रसंस्करण इकाइयाँ स्थापित करने के लिए कहा। उन्होंने मुख्य बाजारों के पास सोलर आधारित कोल्ड स्टोरेज संचालन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

बैठक में उपायुक्त द्वारा वर्ष 2021-22 के लिए तैयार की गई कार्य योजना, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, धान एवं दलहन योजना आदि के तहत राज्य स्तरीय स्वीकृत कार्य योजना के क्रियान्वयन की समीक्षा की गयी. उक्त बैठक में सहायक कलेक्टर रवि जैन, जिला कृषि अधिकारी-सह-परियोजना निदेशक, कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन एजेंसी (आत्मा) सहित कालीपद महतो, जिला भूमि संरक्षण अधिकारी, जिला पशुपालन अधिकारी, जिला मत्स्य अधिकारी, जिला सांख्यिकी अधिकारी, कृषि विज्ञान इस अवसर पर केंद्र जगन्नाथपुर, नोवामुंडी, जेएसएलपीएस, जेटीडीएस, प्रधान इनपुट डीलर्स, एजीवी सहित संगठनों के टीएसआरडीएस प्रतिनिधि उपस्थित थे।

.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here